भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"राजभवन में कुत्ता / मनोज श्रीवास्तव" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
 
पंक्ति 17: पंक्ति 17:
 
न कुर्ता, न टोपी   
 
न कुर्ता, न टोपी   
 
नंग-धड़ंग
 
नंग-धड़ंग
साधे तीन पैरों से
+
साढ़े तीन पैरों से
मटकाकर
+
मटककर
 
अटककर  
 
अटककर  
लाफड़ता-लिथड़ता  
+
लफड़ता-लिथड़ता  
 
क्या-क्या करने आया  
 
क्या-क्या करने आया  
 
यह अपाहिज कुत्ता
 
यह अपाहिज कुत्ता

13:20, 17 सितम्बर 2010 के समय का अवतरण


राजभवन में कुत्ता

इस अभेद्य महल में
रोटी-बोटी जोहते
कहाँ से आया
यह जाहिल कुत्ता

न धोती,
न कुर्ता, न टोपी
नंग-धड़ंग
साढ़े तीन पैरों से
मटककर
अटककर
लफड़ता-लिथड़ता
क्या-क्या करने आया
यह अपाहिज कुत्ता

गली-कूचों की आवारगी छोड़
देहाती दीवानगी छोड़
ऐय्याशगाह में
आँख चौंधियाने
क्या बनने आया
यह सड़क का कुत्ता

न हत्या, न बलात्कार
न कोई सियासी क़वायद
क्या किया है इसने
जो बैठेगा सभाकक्ष में
भौंकेगा फैलाने को
हिंसा-उन्माद
घसियारों से सहरियों तक,
क्या यह बन पाएगा
एक संभ्रांत कुत्ता

जाएगा अमरीका
कराएगा प्लास्टिक सर्जरी
घुटनों की मरम्मत
नामर्दी का दवा-दारू
सीखेगा बिलायती जुबान
करेगा हवाई सैर,
यों ही बन पाएगा
राजभवन में भटककर आया
यह देशभक्त कुत्ता.