भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

राड़ भोभर बणावै / राजेश कुमार व्यास

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 11:53, 17 अक्टूबर 2013 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सूरज सरीखा
रोज उगै सूपना
पूरा नीं हौवे
जणै
बण जावै
सुळगती थेपड़ियां
धूखै आखौ डील
भुंआळी खा’र
कुरळावै मन
आभै रा उतरै
लेवड़ा
पित्तरां री ओळ्यू
मांय री बळत बधावै
खूंजा संभाळूं जणै
कीं नीं मिलै
खुद सूं
खुद री
आ राड़
भोभर बणावै।