भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रात-दिन की बेकली है और मैं हूँ / शिवशंकर मिश्र

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 14:51, 22 जून 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=शिवशंकर मिश्र |अनुवादक= |संग्रह= }} {...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रात-दिन की बेकली है और मैं हूँ
लाश कोई अधजली है और मैं हूँ

सच जो है, जो भी है, जैसा है वही इस
जिंदगी का झूठ भी है और मैं हूँ

मुश्किलें हैं और सब आसानियाँ हैं
एक पुरानी-सी गली है और मैं हूँ

चाहते हैं, राहते हैं, क्या नहीं है
जेब में कुछ मूँगफली है और मैं हूँ

यादें थोड़ी, थोड़े-से गम, थोड़ी खुशियाँ
‘मिशरा’ थोड़ी शायरी है और मैं हूँ