Last modified on 4 मई 2018, at 22:31

रात हुई इस राष्ट्र की / देवी प्रसाद मिश्र

अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 22:31, 4 मई 2018 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= देवी प्रसाद मिश्र |अनुवादक= |संग्...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

जो भी सोचेगा अलग हम लेंगे संज्ञान
जेएनयू का तोड़ दो मेधामय अभिमान

रात हुई इस राष्ट्र की जैसे किया मसान
आस-पास हैं घूमते नव नाजी बलवान

अधिनायक की आँख में हत्या का वीरान
इस विदर्भ में झूलते लुटते हुए किसान

हर कोने से गूँजता फ़ासिस्टी जयगान
उस कोने बजरंग है, पतंग लिए सलमान

इस ताक़त के सामने काँप गया ईमान
दावत में दिखते रहे पीके नर्वस खान

किस हक़ से हो जाँचते बार - बार ईमान
हर भाषा में पूछते कितने पाकिस्तान

साँस भरी पानी पिया खुसरो लुटा मकान
ढूँढ़ रहे इस रेत में अपना नख़लिस्तान