भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रास आई है फिज़ा जबसे इबादतग़ाह की / विनय कुमार

Kavita Kosh से
Pratishtha (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 18:43, 29 जुलाई 2008 का अवतरण (New page: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=विनय कुमार |संग्रह=क़र्जे़ तहज़ीब एक दुनिया है / विनय क...)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रास आई है फिज़ा जबसे इबादतग़ाह की।
राज बंदों का रहे, मर्ज़ी हुई अल्लाह की।

सलवटें ईमान की दिखती नहीं ऐलान में
धुंध में लिपटी हुई आवाज़ आलीज़ाह की।

हरम के हिजड़े अगर होते तभी तो जानते
किस गटर में गल रही है दाल शहंशाह की।

आईना अक़बर का औरंगज़ेब ने खुरचा उसे
देखता कैसे ज़फ़र सूरत बहादुरशाह की।

यह तरक्क़ी है कि है तनहाइयों की इक गुफा
यह अंधेराहै कि है काली दुआ हमराह की।

एक जैसे हैं सभी उस बर्फ से इस झाग तक
खाल है ज़म्हूरियत की रूह तानाशाह की।

बात करिए षायरों से पढ़िए ग़ज़लो की किताब
ज़ख्म हो दिल में अगर चलती नहीं ज़र्राह की।