भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"राहे-वफ़ा में जब भी चले, इस क़दर चले / समीर परिमल" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=समीर परिमल |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatGha...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

15:32, 14 मार्च 2019 के समय का अवतरण

राहे-वफ़ा में जब भी चले, इस क़दर चले
दुनिया के हर रिवाज से हम बेख़बर चले

मुमकिन कहाँ कि साथ कोई मोतबर चले
बस ज़िंदगी की राह में अपना हुनर चले

सहरा में अश्क़ कौन बहाए मेरे लिए
पैरों के आबलों से ही अपनी गुज़र चले

चल हम भी ढूंढ लें कोई छोटा सा आशियाँ
अब रात ढल चुकी है, सितारे भी घर चले

अपना ख़याल है न ज़माने से वास्ता
तेरा ही ज़िक्र दिलरुबा शामो-सहर चले

पड़ने लगीं हैं आज कल रिश्तों में सलवटें
'परिमल' का देखते हैं कहाँ तक सफ़र चले