भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रूख़ हवाओं के किसी सम्त हों मंज़र हैं वही / फ़ुज़ैल जाफ़री

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ३ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:38, 5 नवम्बर 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=फ़ुज़ैल जाफ़री }} {{KKCatGhazal}} <poem> रूख़ हव...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रूख़ हवाओं के किसी सम्त हों मंज़र हैं वही
टोपियाँ रंग बदलती हैं मगर सर हैं वही

जिन के अज्दाद की मोहरें दर ओ दीवार पे हैं
क्या सितम है कि भरे शहर में बे-घर हैं वही

फूल ही फूल थे ख़्वाबों में सर-ए-वादी-ए-शब
सुब्ह-दम राहों में जलते हुए पत्थर हैं वही

नाव कागज़ की चली काठ के घोड़े दौड़े
शोबदा-बाज़ी के सच पूछो तो दफ़्तर हैं वही

बिक गए पिछले दिनों साबह-ए-आलम कितने
हम फ़क़ीरों के मगर ‘जाफ़री’ तेवर हैं वही