भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रोज़ किसी की शील टूटती पुरूषोत्तम के कमरे में / डी. एम. मिश्र

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 03:52, 26 अक्टूबर 2016 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रोज़ किसी की शील टूटती पुरूषोत्तम के कमरे में
फिर शराब की बोतल खुलती पुरूषोत्तम के कमरे में।

गाँव की ताज़ी चिडिया भून के प्लेट में रखी जाती है
फिर गिद्धों की दावत चलती पुरूषोत्तम के कमरे में।

अंदर में अँगरक्षक बैठे बाहर लगे सुरक्षाकर्मी
हवा भी आने से है डरती पुरूषोत्तम के कमरे में।

बड़े -बडे़ नेता और अफ़सर यहाँ सलाम बजाते हैं
क़िस्मत बनती और बिगड़ती पुरूषोत्तम के कमरे में।
 
घपला और घोटाला वाली भले तिजोरी कहीं रहे
चाभी मगर यहीं पर रहती पुरूषोत्तम के कमरे में।
 
फिर क्या गरज़ पड़ी रावण को सीता का वह हरन करे
उसे यहीं हर सुविधा मिलती पुरूषोत्तम के कमरे में।