Last modified on 12 मई 2018, at 12:07

रोज की तरह / विशाल समर्पित

Rahul Shivay (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:07, 12 मई 2018 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=विशाल समर्पित |अनुवादक= |संग्रह= }} {...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

लगभग रोज की तरह
तुम्हारी याद
अपने नियत समय
पर आई
और रोज की तरह ही
मुझे फिर से बैचेनी हुई,
पलकें गीली हुईं
मगर मैंने रोज की तरह
अपने आप को
किसी काम में नहीं लगाया
और ना ही तुम्हारी याद से
भागने की कोशिश की
मैं बस अपने कमरे में
चुपचाप बैठ गया
और खुद से ही बोलने लगा
आओ देखें
मछली कब तक पानी से
अलग रह सकती है
या फिर साँसे ह्रदय से
जैसे मैं खींझ रहा था
अपने ही आप पर
अंततः तुम्हारी याद को
विदा कर
केमिस्ट्री की किताब उठाई
उसमे कुछ
सुखी पंखुड़ियाँ
निकल आईं गुलाब की।