भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रोशनी छीन ली / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’

Kavita Kosh से
वीरबाला (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 08:16, 12 नवम्बर 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' }} {{KKCatKavita...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुस्कुराएँ भला हम किस बात पर
अधरों की सारी हँसी छीन ली ।
बाँटेंगे सोचा सुख हर द्वार पर
कुछ ने तो वही पोटली छीन ली।
पाप गैर के लाकर भर ही दिए
निर्मल थी बही वह नदी छीन ली।
बनजारे थे हम टिकते भी कहाँ
जो घर को मिली, रोशनी छीन ली।
बाट चौराहे सब बन्द कर दिए
तेरे द्वार जाती गली छीन ली।