भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लड़कियाँ जब होती है सपनों में / सतीश छींपा

Kavita Kosh से
Neeraj Daiya (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 04:52, 14 जनवरी 2011 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सतीश छींपा |संग्रह= }} {{KKCatKavita‎}}<poem>लड़कियाँ जब होती …)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लड़कियाँ जब होती है सपनों में
तब दुनियाँ वाकई सुन्दर होती है।
बर्फ सी जमी सांसे
पिघलती है।
धीरे-धीरे
ग्लेशियर की मानिन्द
और बना देती है एक नदी
आँखों के पीछे का खारा समन्दर
कुछ पलों के लिए सूख जाता है
वे स्कूल जाती है
हँसती-खिलखिलाती
गाती-गुनगुनाती है
स्वतंत्र दुनियां
डोलती रहती है निश्चिंत
लड़कियां -
चिंताओं को डाल देती है खूंटी पर
करती है प्रेम
लिख-लिख उड़ा देती है प्रेम कविताएँ
रच डालती है
एक सुन्दर समाज
सच-
बहुत सुन्दर होती है
लड़कियाँ की सपनों की दुनियाँ