भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लड़ाई अब हमारी ठन रही है / ज्ञान प्रकाश विवेक

Kavita Kosh से
Pratishtha (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 21:12, 6 फ़रवरी 2008 का अवतरण (New page: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=ज्ञान प्रकाश विवेक }} लड़ाई अब हमारी ठन रही है कि अब दि...)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लड़ाई अब हमारी ठन रही है

कि अब दिल्ली शिकागो बन रही है


तुम्हारी ऐशगाहों से गलाज़त

बड़ी बेशर्म होकर छन रही है


ग़रीबों की खुशी भी दरहकीकत-

नगर के सेठ की उतरन रही है


ये मेरी देह को क्या हो रहा है

किसी तलवार जैसी बन रही है


गज़ब किरदार है उस झोपड़ी का

जो आँधी के मुकाबिल तन रही है


लहू से चित्रकारी कर रहे हैं

ये बस्ती खूबसूरत बन रही है