भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

लफ़्ज़ों के परिस्तार ख़बर ही तुझे क्या है / सीमाब अकबराबादी

Kavita Kosh से
चंद्र मौलेश्वर (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:03, 28 जुलाई 2009 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सीमाब अकबराबादी |संग्रह= }} <poem> लफ़्ज़ों के परिस्...)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 

लफ़्ज़ों के परिस्तार ख़बर ही तुझे क्या है?
जब दिल से लगी हो तो ख़मोशी भी दुआ है॥

दीवाने को तहक़ीर से क्यों देख रहा है।
दीवाना मुहब्बत की ख़ुदाई का ख़ुदा है॥

जो कुछ है वो, है अपनी ही रफ़्तारे-अमल से।
बुत है जो बुलाऊँ, जो ख़ुद आये तो खुदा है॥