भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ले दे के इस हयात में बस एक काम हो / सिया सचदेव

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 14:41, 28 नवम्बर 2011 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सिया सचदेव }} {{KKCatGhazal}} <poem> ले दे के इस हय...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ले दे के इस हयात में बस एक काम हो
मेरी जुबां से ज़िक्र तेरा सुब्ह ओ शाम हो
 
मैं उम्र भर तेरी ही इबादत में बस रहू
सजदे में तेरे जिंदगी मेरी तमाम हो
 
खिलते रहे चमन में मोहब्बत के फूल ही
दुनिया में नफरतों का न कोई निजाम हो
 
रुसवा जो हो गए हैं बहुत कमनसीब हैं
ये कौन चाहता हैं जहाँ में न नाम हो
 
हम तो तुम्हारे वास्ते करते हैं इक दुआ
सबके लबों पे आपका उम्दा कलाम हो
 
नेकी की राह से कोई भटके न अब सिया
अच्छाइयों का रास्ता इतना तो आम हो