भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लोरी / धीरज पंडित

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:12, 29 मार्च 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=धीरज पंडित |अनुवादक= |संग्रह=अंग प...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हमरों नूनू के के मारेॅ
आवी जा गोदी तोंय हमरा ...नूनू
आवी जा गोदी तोंय हमरा-हमरो...

कौवा देबो मैना देबो
बाजा दिलैवों तोरा-रे नूनू
बाजा दिलैवो तोरा-हमरो...

तोंय तेॅ करेजबा रो टुकड़ा छेको
मेला घुरैबों तोरा-रे नूनू
मेला घुरैबों तोरा-हमरो...

कथी ले कानै छैरही-रही तोंय
झुला झुलैबों तोरा-रे नूनू
झुला झुलैबों तोंरा-हमरों...

माय तोरो गेलो छों नाहै लेॅ पोखर
अईतै, दुधवा पिलैतो तोरा-रे नूनू
अइतै दुधवा पिलैतों तोरा-
हमरो नूनू के के मारेॅ...