भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लौट आओ गाँव में / ज्ञान प्रकाश चौबे

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 18:31, 21 जून 2011 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=ज्ञान प्रकाश चौबे |संग्रह= }} {{KKCatKavita}} <Poem> बैठ गए दो …)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बैठ गए दो पल
झूठ की नाव में
लौट आओ गाँव में

आँखों पर बँधी पट्टी
घोड़े की दौड़ है
सेहरा मिले जीत का
बाकी सब गौड़ है

मिलेगी ठण्ड कितनी
पैसे की छाँव में
लौट आओ गाँव में

दादी की पोपली हँसी
शामत की घड़ी है
खोई धुएँ-धूल शोर में
दादा की छड़ी है

हँसना नहीं रोना है
कौए की काँव में
लौट आओ गाँव में

चौराहे पर हो रहा
नाटकों का खेल है
हाज़िर है आदमी
आदमीयत गोल है

आती हैं चिट्ठियाँ
भर आँसू आँख में
लौट आओ गाँव में