भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

वसंत का मेला / अशोक लव

Kavita Kosh से
Pratishtha (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:23, 28 मार्च 2011 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


उग गयी
अमलतास पर उत्साहों की पत्तियाँ
झड गयी टहनियों की उदासी
सज गए आशाओं के फूल

उतार दिए अमलतास ने
पतझड़ी वस्त्र
चल पड़ा देखने
वसंत का मेला
हरे रंग पर
पीले छपे वाले फूलों वाली कमीज़ पहने