भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वसन्त / केदारनाथ अग्रवाल

Kavita Kosh से
Pratishtha (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 19:19, 28 मार्च 2011 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिम के हत संकुचित प्रकृति अब फूली

रूप-राग-रस-गंध-भार भर झूली

रंगों से अभिभूत हुई चट्टानें

जड़ता में जागीं जीवन की तानें

नभ में भी आलोक-नील गहराया

सागर ने संगीत तरंगित गाया

आठ रूप शिव के, समाधि को त्यागे

मृण्मय अवनी के अंगों में जागे

वासंतिक वैभव यौवन पर आया

हरा-भरा संसार खिला मुस्काया ।