भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वह जो असंभव है / मनोज श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
Dr. Manoj Srivastav (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 11:16, 30 जून 2010 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वह जो असम्भव है...

पेशेवर बलात्कारियों के ब्रह्मचारी होने पर टिकी है
संवासिनियों की शुचिता और
कन्याओं का कुमारी,
आदत से लाचार आदमखोरों के शाकाहारी होने पर टिका है
नागरिकों का अस्तित्त्व,
पुश्तैनी जमाखोरों के कर्ण बनने पर टिका है
गरीबी और भुखमरी का उन्मूलन,
चिरशापित रेगिस्तानों के उर्वर होने पर टिका है
किसानों का भविष्य,
खंडहरों के कारखानों में बदलने पर टिका है
बेकारी का सफाया,
लाइलाज पागलों के विवेकशील होने पर टिका है
सामाजिक और सांस्कृतिक उत्थान,
नागों के अमृतधारी होने पर टिका है
अच्छाइयों की जिजीविषा,
तूफान की दया पर दीपक के न बुझने पर टिका है
उजाले का ख्वाब,
बियांबों से भूत-प्रेतों के निष्कासन पर टिका है
अमन-चैन और सुकून.