भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वह / गीताश्री

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 03:18, 25 जुलाई 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=गीताश्री |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatKavita}...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वह हवा थी,
अभेद्य दीवारो में सूराख करके
निकल जाना चाहती थी
वह बादल थी,
धरती की सूखी दरारो में
भर जाना चाहती थी

वह नमी थी
जो बंजर को मुलायमियत का
उपहार देना चाहती थी
वह खानाबदोश थी
जो खेतो को
उर्वर बनाने को बेताब थी

वह हँसी थी
जो पहाड़ की छाती चीर कर
फूट पड़ना चाहती थी
वह बीज थी
जो बरगद बन कर
धूप को छाया देना चाहती थी

वह तब भी थी,
जब निराकार थी दुनिया और
मिट्टी में पनप रहे थे कुछ जीवाश्म
मैं उसे
फिर से ढूँढ़ रही हूँ...
कहीं तो मिलेगा उसका निशाँ

किसी हँसी में
किसी पेड़ में
किसी घास पर
किसी नमी में
किसी पानी में
किसी हवा में...
कहीं तो होगी वह..
कहाँ होगी वह।