भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

विजय 'अरुण' / परिचय

Kavita Kosh से
द्विजेन्द्र द्विज (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 07:28, 2 जून 2019 का अवतरण ('{{KKRachnakaarParichay |रचनाकार=विजय 'अरुण' }} <poem> '''क़लमी नाम'''- विजय 'अ...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क़लमी नाम- विजय 'अरुण'
पूरा नाम- विजय कुमार पुरी
उपनाम- 'अरुण'
जन्म- 09-11-1935
जन्म स्थान- अमृतसर
प्रमुख कृति- केनिया के तीन प्रमुख उर्दू कवियों (उन में से एक) पर 1989 में प्रकाशित काव्य
संग्रह ' परदेस हमारा देस'

जीवन परिचय- पांच वर्ष की वय से ही कविता की ओर अभिरुचि। 24 वर्ष की वय में नैरोबी,
केनिया में जीविकोपार्जन के लिए गए। वहीं उर्दू के प्रसिद्ध कवि और शोधकर्ता पद्मश्री अल्लामा
कालिदास गुप्ता 'रिज़ा' से काव्य की बारीकियां सीखी। 55 वर्ष की वय में भारत लौटेऔर मुम्बई
में रहने लगे। ग़ज़ल प्रिय विधा है। हिंदी, उर्दू , पंजाबी और अंग्रेज़ी में समान रूप से काव्य
सृजन कर लेते हैं। हिंदी, उर्दू और पंजाबी की प्रमुख पत्र पत्रिकाओं में रचनाएं प्रकाशित होती रहती हैं।