भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

विदाई में / कविता भट्ट

Kavita Kosh से
वीरबाला (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 19:40, 8 अगस्त 2019 का अवतरण ('{KKRachna |रचनाकार=कविता भट्ट |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatKavita}} <poem> '...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

{KKRachna |रचनाकार=कविता भट्ट |अनुवादक= |संग्रह= }}

विदाई में तेरे चेहरे की सलवटें
मुझे सताए जैसे बेघर को गर्म लू।

तू रो न सका, मेरे आँसू न रुके,
पहाड़ी घाटी में उदास नदी-सा तू।

छोड़ रहा था चुन्नी, काँपते हाथों से,
सुना था, पुरुष लौह स्तम्भ हैं हूबहू।

तेरे मन के कोने मैंने भी रौशन किए,
मेरी नज़र में मन्दिर के दिये -सा तू।

चार क़दम में कई जीवन जी लिये,
अमरत्व को उन्मुख अब यौवन शुरू।