भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

विरह गीत / धीरज पंडित

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:07, 29 मार्च 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=धीरज पंडित |अनुवादक= |संग्रह=अंग प...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चिट्ठी केॅ पढ़ी केॅ चिट्ठी लिखियोॅ
कि तोरा मन मेॅ छौ हमरा कहियोॅ।
कैन्हेॅ नाय तोंय दै छी जबाबा गोरिये
तोरॉे याद मेॅ रहै छी बेहाल गोरिये।

गामोॅ में रहै छेलोॅ जखनी हम्मेॅ
तोरा पियिे छेलोॅ तखनी हम्मेॅ।
जेहिया सेॅ हम्मेॅ विदेश आवी गेलोॅ
चिट्ठी लिखैतै ई हम्मे थक्की गेलोॅ
मिलला सेॅ होय गेलै साल गोरिये
तोरो यादो मेॅ रहै छी बेहाल गोरिये।

जानै नय पारोॅ हाल अपनोॅ गाँव केॅ
अमुआँ के गाछ तर बितैलोॅ धूप छाँव केॅ।
छम-छम पायल बाजै जे तोरोॅ पाँव केॅ
खेललोॅ जे आँख-मिचौली अपनोॅ दाँव केॅ।
करी याद ऐसनोॅ कमाल गोरिये
तोरोॅ याद मेॅ रहै छी बेहाल गोरिये।

जोॅ तोॅय हमरा सेॅ बनबो रूसनियाँ
काटवै कैसोॅ ई भरलोॅ जवानियाँ।
ऐतना नय आपनोॅ कसाय तोंय बुझोॅ
होय छै कि एकरोॅ बाद तोंय समझोॅ।
करभोॅ तोंय पाछू मलाल गोरिये
तोरोॅ यादो मेॅ रहै छी बेहाल गोरिये।