भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वीर न अपनी बान छोड़ते / श्रीनाथ सिंह

Kavita Kosh से
Dhirendra Asthana (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:47, 5 अप्रैल 2015 का अवतरण ('{{KKRachna |रचनाकार=श्रीनाथ सिंह |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatBaalKavita...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सूरज अपनी चमक छोड़ दे,
तो कैसे हो दूर अँधेरा?
धरती पर सब पेड़ पड़ रहें,
तो चिड़ियाँ लें कहाँ बसेरा
दूध लगे यदि खारा होने,
तो कैसे माँ प्यार दिखावे?

आग अगर तज दे गरमाहट,
रोटी कैसे कौन पकावे?
तजते नहीं स्वभाव उच्च जन,
पर सेवा से मुहं न मोड़ते,
लाख मुसीबत मिले मार्ग में,
वीर न अपनी बान छोड़ते।