भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वीर प्रतिज्ञा / श्रीनाथ सिंह

Kavita Kosh से
Dhirendra Asthana (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:31, 5 अप्रैल 2015 का अवतरण ('{{KKRachna |रचनाकार=श्रीनाथ सिंह |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatBaalKavita...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चाह कुछ सुख की नहीं,
दुःख की नहीं परवाह है।
प्रिय देश के कल्याण की,
हमने गहि अब राह है।
हों क्यों न अंगारे बिछे,
मुँह जरा मोंड़ेगे नहीं।
मिट जायेंगे पर देश का,
अभिमान छोड़ेंगे नहीं।
खाली भले ही पेट हो,
नंगी भले ही देह हो।
सौ आफतें हों सामने,
उजड़ा भले ही गेह हो।
हो देश की जय ,भय नहीं,
हमको जरा है क्लेश का।
बाजी लगा कर प्राण की,
हम साथ देंगे देश का।