भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"वे किसान की नयी बहू की आँखें / सूर्यकांत त्रिपाठी "निराला"" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
पंक्ति 2: पंक्ति 2:
 
{{KKRachna
 
{{KKRachna
 
|रचनाकार=सूर्यकांत त्रिपाठी "निराला"
 
|रचनाकार=सूर्यकांत त्रिपाठी "निराला"
 +
|संग्रह=अनामिका / सूर्यकांत त्रिपाठी "निराला"
 
}}
 
}}
नहीं जानती जो अपने को खिली हुई--<br>
+
{{KKCatKavita}}
विश्व-विभव से मिली हुई,--<br>
+
<poem>
नहीं जानती सम्राज्ञी अपने को,--<br>
+
नहीं जानती जो अपने को खिली हुई--
नहीं कर सकीं सत्य कभी सपने को,<br>
+
विश्व-विभव से मिली हुई,--
वे किसान की नयी बहू की आँखें<br>
+
नहीं जानती सम्राज्ञी अपने को,--
ज्यों हरीतिमा में बैठे दो विहग बन्द कर पाँखें;<br>
+
नहीं कर सकीं सत्य कभी सपने को,
वे केवल निर्जन के दिशाकाश की,<br>
+
वे किसान की नयी बहू की आँखें
प्रियतम के प्राणों के पास-हास की,<br>
+
ज्यों हरीतिमा में बैठे दो विहग बन्द कर पाँखें;
भीरु पकड़ जाने को हैं दुनिया के कर से--<br>
+
वे केवल निर्जन के दिशाकाश की,
बढ़े क्यों न वह पुलकित हो कैसे भी वर से।<br><br>
+
प्रियतम के प्राणों के पास-हास की,
 
+
भीरु पकड़ जाने को हैं दुनिया के कर से--
(कविता संग्रह, "अनामिका" से)
+
बढ़े क्यों न वह पुलकित हो कैसे भी वर से।
 +
</poem>

23:19, 8 अक्टूबर 2009 का अवतरण

नहीं जानती जो अपने को खिली हुई--
विश्व-विभव से मिली हुई,--
नहीं जानती सम्राज्ञी अपने को,--
नहीं कर सकीं सत्य कभी सपने को,
वे किसान की नयी बहू की आँखें
ज्यों हरीतिमा में बैठे दो विहग बन्द कर पाँखें;
वे केवल निर्जन के दिशाकाश की,
प्रियतम के प्राणों के पास-हास की,
भीरु पकड़ जाने को हैं दुनिया के कर से--
बढ़े क्यों न वह पुलकित हो कैसे भी वर से।