भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"वे दोनों / कुमार विकल" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(New page: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=कुमार विकल |संग्रह=निरुपमा दत्त मैं बहुत उदास हूँ }} '''(ए...)
 
 
पंक्ति 2: पंक्ति 2:
 
{{KKRachna
 
{{KKRachna
 
|रचनाकार=कुमार विकल
 
|रचनाकार=कुमार विकल
|संग्रह=निरुपमा दत्त मैं बहुत उदास हूँ
+
|संग्रह=निरुपमा दत्त मैं बहुत उदास हूँ / कुमार विकल
 
}}
 
}}
  

00:48, 27 फ़रवरी 2008 के समय का अवतरण

(एक परिचित प्रेमी युगल के प्रति)


अच्छा हुआ

वे दोनों

मेरे जीवन से ऎसे निकल गए

जैसे दो प्रेमी

पुस्तक-मेले में आएँ

और बिना कोई क़िताब ख़रीदे

केवल सूची-पत्र इकट्ठे करके ले जाएँ ।

लेकिन मेरा यह डर है

इसी तरह वे

एक-दूसरे के जीवन से चले जाएंगें

बिना एक-दूसरे की क़िताब को पढ़े हुए


क्योंकि उनके लिए

अभी तक जीवन

मात्र एक जिस्मों का मेला है

अक्षरों

शब्दों, वाक्यों

पुस्तकों का नहीं

जिनमें लोगों के दुख-सुख रहते हैं

मनुष्य के मन की प्रेमकथा कहते हैं ।