Last modified on 3 नवम्बर 2013, at 14:42

वो रतजगा था कि अफ़्सून-ए-ख़्वाब तारी था / अख़्तर होश्यारपुरी

सशुल्क योगदानकर्ता ३ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 14:42, 3 नवम्बर 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अख़्तर होश्यारपुरी }} {{KKCatGhazal}} <poem> वो ...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

वो रतजगा था कि अफ़्सून-ए-ख़्वाब तारी था
दिए की लौ पे सितारों का रक़्स जारी था

मैं उस को देखता था दम-ब-ख़ुद था हैराँ था
किसे ख़बर वो कड़ा वक़्त कितना भारी था

गुज़रते वक़्त ने क्या क्या न चारा साज़ी की
वगरना ज़ख़्म जो उस ने दिया था कारी था

दयार-ए-जाँ में बड़ी देर में ये बात खुली
मिरा वजूद ही ख़ुद नंग दोस्त-दारी था

किसे बताऊँ मैं अपनी नवा की रम्ज़ ‘अख़्तर’
कि हर्फ़ जो नहीं उतरे मैं उन का क़ारी था