भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"शब्दों की पीड़ा / मनोज श्रीवास्तव" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= मनोज श्रीवास्तव |संग्रह= }} {{KKCatKavita}} <poem> ''' शब्दों …)
 
 
पंक्ति 8: पंक्ति 8:
  
 
'''    शब्दों की पीड़ा    '''
 
'''    शब्दों की पीड़ा    '''
 +
 +
दुखते भावों को सहलाते
 +
तरल विचारों को सिमटाते
 +
आज कैद हैं शब्द हमारे 
 +
 +
मिथक-श्वांस से किए प्रवाहित
 +
प्राण-पुराण, जो हुए समाहित
 +
शब्द-नयन में, दृष्टि उघारे
 +
 +
लम्पट अर्थों की शमशीरें
 +
खोद रही हैं धीरे-धीरे
 +
नींव हिंद की, कौन उबारे

16:00, 17 सितम्बर 2010 के समय का अवतरण


शब्दों की पीड़ा

दुखते भावों को सहलाते
तरल विचारों को सिमटाते
आज कैद हैं शब्द हमारे

मिथक-श्वांस से किए प्रवाहित
प्राण-पुराण, जो हुए समाहित
शब्द-नयन में, दृष्टि उघारे

लम्पट अर्थों की शमशीरें
खोद रही हैं धीरे-धीरे
नींव हिंद की, कौन उबारे