भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शब्दों की पीड़ा / मनोज श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
Dr. Manoj Srivastav (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:00, 17 सितम्बर 2010 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


शब्दों की पीड़ा

दुखते भावों को सहलाते
तरल विचारों को सिमटाते
आज कैद हैं शब्द हमारे

मिथक-श्वांस से किए प्रवाहित
प्राण-पुराण, जो हुए समाहित
शब्द-नयन में, दृष्टि उघारे

लम्पट अर्थों की शमशीरें
खोद रही हैं धीरे-धीरे
नींव हिंद की, कौन उबारे