भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शव-3 / समीर बरन नन्दी

Kavita Kosh से
Dkspoet (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:38, 12 दिसम्बर 2011 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बचपन की छाया की तरह
पड़ा रहता है शव
पहले प्यार की तरह
जागा रहता है शव ।

जैसे गुफ़ा में रहता है अँधेरा
चित्र-लिपि-सा हाड़ पर रहता है उकेरा
जैसे आदर्श से ढका रहता है
नेता का चेहरा ।

दुधमुँहे बच्चे में जैसे
रिश्तो का बीज छुपा होता है
शव के लिए देह को
बचा कर रखना होता है ।