भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शाम ढले घर आने जाने लगते हैं / राज़िक़ अंसारी

Kavita Kosh से
द्विजेन्द्र द्विज (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 07:32, 14 जून 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=राज़िक़ अंसारी }} {{KKCatGhazal}} <poem>शाम ढले...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शाम ढले घर आने जाने लगते हैं
याद के पंछी शोर मचाने लगते हैं

सच्चाई जब हम को मुजरिम ठहराये
आईनों पर हम झुंझलाने लगते हैं

मजबूरी जब होंटों को सी देती है
आँसू दिल का दर्द बताने लगते हैं

ख़ुशहाली का बस एलान किया जाए
घर में रिश्ते आने जाने लगते हैं