भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शायरी के इस सरो-समान का / रामश्याम 'हसीन'

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ५ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:36, 26 फ़रवरी 2020 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रामश्याम 'हसीन' |अनुवादक= |संग्रह= }}...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शायरी के इस सरो-सामान का
नाम कुछ रख दो मेरे दीवान का

लाख समझाता हूँ, इक सुनता नहीं
क्या करूँ मैं इस दिले-नादान का

याद, तनहाई, तड़प, ग़म, इज़्तराब
ध्यान रखता हूँ मैं हर मेहमान का

छोड़ दी कश्ती ख़ुदा के नाम पर
अब हमें क्या डर किसी तूफ़ान का

और पैसा और पैसा चाहिए
हो गया पैसा ही रब इन्सान का