भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"षष्टम प्रकरण / श्लोक 1-4 / मृदुल कीर्ति" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=मृदुल कीर्ति |संग्रह = अष्टावक्र गीता / मृदुल की...)
 
छो ()
 
(कोई अंतर नहीं)

22:16, 2 फ़रवरी 2009 के समय का अवतरण

अष्टावक्र उवाचः
घटवत जगत, प्रकृति निःसृत आकाश वाट में अनंत है,
अतः इसके ग्रहण त्याग और लय में भी निश्चिंत है.-------१

में समुद्र सदृश्य हूँ, यह जग तरंगों तुल्य है,
अतः इसके ग्रहण, लय और त्याग का क्या मूल्य है.------२

सीपवत मैं हूँ यथा जग में रजत सम भ्रान्ति है,
अतः इसको ग्रहण लय न त्याग, ज्ञान ही, शान्ति है.------३

में आत्मा अद्वैत व्यापक , प्राणियों का मूल हूँ,
अतः इसके ग्रहण लय और त्याग में निर्मूल्य हूँ.------४