भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"सँकल्प / दिनेश्वर प्रसाद" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=दिनेश्वर प्रसाद |अनुवादक= |संग्रह...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

03:08, 22 अगस्त 2019 के समय का अवतरण

मुझे अपना ईसा स्वयं होना है
अपना सलीब स्वयं ढोना है
और हर बीते क्षण की समाधि से
हर नए क्षण में पुनर्जीवित होना है
और अपने जीवन के समस्त पातकों को
स्वयं क्षमा करना है, स्वयं धोना है

मैंने सोचा था —
फ़सल जब पकेगी, काट लूँगा
फूल जब खिलेंगे, तोड़ लूँगा
बिना खिड़की खोले प्रभात के आतप को
अपने हिस्से में सबसे ज़्यादा बाँट लूँगा

किन्तु
बिना चोट सहे, बनने का सुख
बिना क्षार हुए, बसने का सुख
बिना धुँधुआए अपनी ओदी लकड़ी को
यज्ञ की अग्नि-सा जलने का सुख
                                    किसने पाया है ?
                                    किसी ने पाया है ?

अपना गुलाब खिलाने को
मेरे रूधिर को खाद बनने दो
अपना वसन्त लाने को
मेरे पतझर को सड़ने दो, गलने दो
अपना उदयाचल पाने को
मेरे असंख्य अभियानों को
गुमराह होने दो
हाथ मलने दो !