भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

संत से अंतर ना हो नारद जी, संत से अंतर ना / टेकमन राम

Kavita Kosh से
Mani Gupta (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:29, 24 अगस्त 2013 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

संत से अंतर ना हो नारद जी, संत से अंतर ना।। टेक।।
भजन करे से बेटा हमारा, ग्यान पढ़े से नाती,
रहनी रहे से गुरु हमारा, हम रहनी के साथी।
संत जेवेके तबहीं मैं जेइलें, संत सोए हम जागी,
जिन मोरा संत के निन्दा कइले, ताही काल होइ लागी।
किरतनिया से बीस रहीले, नेहुआ से हम तीस,
भजनानन्द का हिरदा में रहिले, संत का घर शीश।
संतन मोरा अदल सरीरा, हम संतन के जीव,
सब संतन से हम रमि जहीले, जइसे मखन के घीव,
श्री टेकमन महाराज भीखम स्वामी, जइसे मखन के घीव।।