भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

"सच न बोलना / नागार्जुन" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
 
पंक्ति 1: पंक्ति 1:
 
{{KKGlobal}}
 
{{KKGlobal}}
 
{{KKRachna
 
{{KKRachna
|रचनाकार=नागार्जुन
+
|रचनाकार=नागार्जुन
 
|संग्रह=हज़ार-हज़ार बाहों वाली / नागार्जुन
 
|संग्रह=हज़ार-हज़ार बाहों वाली / नागार्जुन
 
}}
 
}}
 +
{{KKCatKavita‎}}
 +
<Poem>
 +
मलाबार के खेतिहरों को अन्न चाहिए खाने को,
 +
डंडपाणि को लठ्ठ चाहिए बिगड़ी बात बनाने को!
 +
जंगल में जाकर देखा, नहीं एक भी बांस दिखा!
 +
सभी कट गए सुना, देश को पुलिस रही सबक सिखा!
  
मलाबार के खेतिहरों को अन्न चाहिए खाने को,<br>
+
जन-गण-मन अधिनायक जय हो, प्रजा विचित्र तुम्हारी है
डंडपाणि को लठ्ठ चाहिए बिगड़ी बात बनाने को!<br>
+
भूख-भूख चिल्लाने वाली अशुभ अमंगलकारी है!
जंगल में जाकर देखा, नहीं एक भी बांस दिखा!<br>
+
बंद सेल, बेगूसराय में नौजवान दो भले मरे
सभी कट गए सुना, देश को पुलिस रही सबक सिखा!<br><br>
+
जगह नहीं है जेलों में, यमराज तुम्हारी मदद करे।
  
जन-गण-मन अधिनायक जय हो, प्रजा विचित्र तुम्हारी है<br>
+
ख्याल करो मत जनसाधारण की रोज़ी का, रोटी का,
भूख-भूख चिल्लाने वाली अशुभ अमंगलकारी है!<br>
+
फाड़-फाड़ कर गला, न कब से मना कर रहा अमरीका!
बंद सेल, बेगूसराय में नौजवान दो भले मरे<br>
+
बापू की प्रतिमा के आगे शंख और घड़ियाल बजे!
जगह नहीं है जेलों में, यमराज तुम्हारी मदद करे। <br><br>
+
भुखमरों के कंकालों पर रंग-बिरंगी साज़ सजे!
  
ख्याल करो मत जनसाधारण की रोज़ी का, रोटी का,<br>
+
ज़मींदार है, साहुकार है, बनिया है, व्योपारी है,
फाड़-फाड़ कर गला, न कब से मना कर रहा अमरीका!<br>
+
अंदर-अंदर विकट कसाई, बाहर खद्दरधारी है!
बापू की प्रतिमा के आगे शंख और घड़ियाल बजे!<br>
+
सब घुस आए भरा पड़ा है, भारतमाता का मंदिर
भुखमरों के कंकालों पर रंग-बिरंगी साज़ सजे!<br><br>
+
एक बार जो फिसले अगुआ, फिसल रहे हैं फिर-फिर-फिर!
  
ज़मींदार है, साहुकार है, बनिया है, व्योपारी है,<br>
+
छुट्टा घूमें डाकू गुंडे, छुट्टा घूमें हत्यारे,
अंदर-अंदर विकट कसाई, बाहर खद्दरधारी है!<br>
+
देखो, हंटर भांज रहे हैं जस के तस ज़ालिम सारे!
सब घुस आए भरा पड़ा है, भारतमाता का मंदिर<br>
+
जो कोई इनके खिलाफ़ अंगुली उठाएगा बोलेगा,
एक बार जो फिसले अगुआ, फिसल रहे हैं फिर-फिर-फिर!<br><br>
+
काल कोठरी में ही जाकर फिर वह सत्तू घोलेगा!
  
छुट्टा घूमें डाकू गुंडे, छुट्टा घूमें हत्यारे,<br>
+
माताओं पर, बहिनों पर, घोड़े दौड़ाए जाते हैं!
देखो, हंटर भांज रहे हैं जस के तस ज़ालिम सारे!<br>
+
बच्चे, बूढ़े-बाप तक न छूटते, सताए जाते हैं!
जो कोई इनके खिलाफ़ अंगुली उठाएगा बोलेगा,<br>
+
मार-पीट है, लूट-पाट है, तहस-नहस बरबादी है,
काल कोठरी में ही जाकर फिर वह सत्तू घोलेगा!<br><br>
+
ज़ोर-जुलम है, जेल-सेल है। वाह खूब आज़ादी है!  
  
माताओं पर, बहिनों पर, घोड़े दौड़ाए जाते हैं!<br>
+
रोज़ी-रोटी, हक की बातें जो भी मुंह पर लाएगा,
बच्चे, बूढ़े-बाप तक न छूटते, सताए जाते हैं!<br>
+
कोई भी हो, निश्चय ही वह कम्युनिस्ट कहलाएगा!
मार-पीट है, लूट-पाट है, तहस-नहस बरबादी है,<br>
+
नेहरू चाहे जिन्ना, उसको माफ़ करेंगे कभी नहीं,
ज़ोर-जुलम है, जेल-सेल है। वाह खूब आज़ादी है! <br><br>
+
जेलों में ही जगह मिलेगी, जाएगा वह जहां कहीं!
  
रोज़ी-रोटी, हक की बातें जो भी मुंह पर लाएगा,<br>
+
सपने में भी सच न बोलना, वर्ना पकड़े जाओगे,
कोई भी हो, निश्चय ही वह कम्युनिस्ट कहलाएगा!<br>
+
भैया, लखनऊ-दिल्ली पहुंचो, मेवा-मिसरी पाओगे!
नेहरू चाहे जिन्ना, उसको माफ़ करेंगे कभी नहीं,<br>
+
माल मिलेगा रेत सको यदि गला मजूर-किसानों का,
जेलों में ही जगह मिलेगी, जाएगा वह जहां कहीं!<br><br>
+
हम मर-भुक्खों से क्या होगा, चरण गहो श्रीमानों का!
 
+
</poem>
सपने में भी सच न बोलना, वर्ना पकड़े जाओगे,<br>
+
भैया, लखनऊ-दिल्ली पहुंचो, मेवा-मिसरी पाओगे!<br>
+
माल मिलेगा रेत सको यदि गला मजूर-किसानों का,<br>
+
हम मर-भुक्खों से क्या होगा, चरण गहो श्रीमानों का!<br><br>
+

12:45, 25 अक्टूबर 2009 के समय का अवतरण

मलाबार के खेतिहरों को अन्न चाहिए खाने को,
डंडपाणि को लठ्ठ चाहिए बिगड़ी बात बनाने को!
जंगल में जाकर देखा, नहीं एक भी बांस दिखा!
सभी कट गए सुना, देश को पुलिस रही सबक सिखा!

जन-गण-मन अधिनायक जय हो, प्रजा विचित्र तुम्हारी है
भूख-भूख चिल्लाने वाली अशुभ अमंगलकारी है!
बंद सेल, बेगूसराय में नौजवान दो भले मरे
जगह नहीं है जेलों में, यमराज तुम्हारी मदद करे।

ख्याल करो मत जनसाधारण की रोज़ी का, रोटी का,
फाड़-फाड़ कर गला, न कब से मना कर रहा अमरीका!
बापू की प्रतिमा के आगे शंख और घड़ियाल बजे!
भुखमरों के कंकालों पर रंग-बिरंगी साज़ सजे!

ज़मींदार है, साहुकार है, बनिया है, व्योपारी है,
अंदर-अंदर विकट कसाई, बाहर खद्दरधारी है!
सब घुस आए भरा पड़ा है, भारतमाता का मंदिर
एक बार जो फिसले अगुआ, फिसल रहे हैं फिर-फिर-फिर!

छुट्टा घूमें डाकू गुंडे, छुट्टा घूमें हत्यारे,
देखो, हंटर भांज रहे हैं जस के तस ज़ालिम सारे!
जो कोई इनके खिलाफ़ अंगुली उठाएगा बोलेगा,
काल कोठरी में ही जाकर फिर वह सत्तू घोलेगा!

माताओं पर, बहिनों पर, घोड़े दौड़ाए जाते हैं!
बच्चे, बूढ़े-बाप तक न छूटते, सताए जाते हैं!
मार-पीट है, लूट-पाट है, तहस-नहस बरबादी है,
ज़ोर-जुलम है, जेल-सेल है। वाह खूब आज़ादी है!

रोज़ी-रोटी, हक की बातें जो भी मुंह पर लाएगा,
कोई भी हो, निश्चय ही वह कम्युनिस्ट कहलाएगा!
नेहरू चाहे जिन्ना, उसको माफ़ करेंगे कभी नहीं,
जेलों में ही जगह मिलेगी, जाएगा वह जहां कहीं!

सपने में भी सच न बोलना, वर्ना पकड़े जाओगे,
भैया, लखनऊ-दिल्ली पहुंचो, मेवा-मिसरी पाओगे!
माल मिलेगा रेत सको यदि गला मजूर-किसानों का,
हम मर-भुक्खों से क्या होगा, चरण गहो श्रीमानों का!