भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सड़क / प्रकाश मनु

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 14:45, 16 फ़रवरी 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=प्रकाश मनु |अनुवादक= |संग्रह=बच्च...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कहाँ-कहाँ से आतीं सड़कें
और कहाँ को जाती हैं,
दौड़-दौड़कर जाती हैं ये
दौड़-दौड़कर आती हैं।

पर शायद यह सही नहीं है
सड़क वहीं पर रहती है,
दौड़ा तो करते हैं हम-तुम
सड़क सभी कुछ सहती है।

बोलो-बोलो, सड़क, तुम्हारी
छाती पर है बोझा कितना?
समझ न पाओगे तुम भैया-
बोझा है छाती पर इतना!

इतना बोझा ढोकर भी मैं
आह नहीं, पर करती हूँ,
मेरा तप बस यही-यही है-
सोच, सभी कुछ सहती हूँ।

मैं बोल-ओ सड़क, तुम्हारी
कठिन तपस्या भारी है,
तुमसे ही जीवन में गति है
जग इसका आभारी है!

बोली सडत्रक-याद यह रखना
नहीं रौंदना मुझको तुम,
नहीं तोड़ना, नहीं फोड़ना
तब जी लेंगे मिल हम-तुम!

तब से भाई, जान गया हूँ
बड़े काम की चीज सड़क है,
जो इस पर कूड़ा फैलाते
उनसे होती मुझे रड़क है!