भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सन्नाटे का संगीत / सुधा अरोड़ा

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 09:46, 21 सितम्बर 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सुधा अरोड़ा |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCat...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अकेली औरत
नींद को पुचकारती है
दुलारती है
पास बुलाती है
पर नींद है कि रूठे बच्चे की तरह
उसे मुँह बिराती हुई
उससे दूर भागती है

अपने को फुसलाती है
सन्नाटे को निहोरती है
देख तो -
कितना खुशनुमा सन्नाटा है
कम से कम
खर्राटों की आवाज से तो बेहतर है

लेकिन नहीं...
जब खर्राटे थे
तो चुप्पी की चाहत थी
अब सन्नाटा कानों को
खर्राटों से ज्यादा खलता है |
सन्नाटे में
सन्नाटे का संगीत सुनना चाहती है
अकेली औरत
पर आलाप को
कुछ ज्यादा ही लंबा खिंचते देख
उसकी अनझपी पलकें
खिड़की से बाहर
आसमान तक की दूरी तय करती हैं
और सितारों के मंडल में
अपने लिए एक सवाल खोज लेती है
जिसका जवाब ढूँढ़ते ढूँढ़ते
चाँद ढलान पर चला जाता है

सुबह का सूरज जब
आसमान के कोने से झाँकने की
कोशिश कर रहा होता है
अकेली औरत की बोझिल पलकें
आसमान पर लाली बिखरने से पहले
मुँदने लगती हैं

रोज की तरह
वह देर सुबह उठेगी
रोज की तरह
अपने को कोसेगी
कि आज भी उगता सूरज देख नहीं पाई...