भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"सफर / सौरभ" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सौरभ |संग्रह=कभी तो खुलेगा / सौरभ }} <Poem> हे चान्द! त...)
 
 
पंक्ति 3: पंक्ति 3:
 
|रचनाकार=सौरभ  
 
|रचनाकार=सौरभ  
 
|संग्रह=कभी तो खुलेगा / सौरभ
 
|संग्रह=कभी तो खुलेगा / सौरभ
 
 
}}
 
}}
 +
{{KKCatKavita}}
 +
{{KKAnthologyChand}}
 
<Poem>
 
<Poem>
 
हे चान्द!
 
हे चान्द!

02:03, 5 अप्रैल 2011 के समय का अवतरण

हे चान्द!
तुम फिर निकल आए
अपने नए रूप में
हर रात भेष बदल
फिरते रहते हो तुम
किसी भटके राही की तरह
जो गोलधारा घूम
फिर वहीं पहुँच जाता है
इतना घूमकर
मैं खुद को वहीं खडा़ पाता हूँ
चान्द की तरह
अब मैं सोच रहा हूँ परेशान
मैं चला भी था कभी
या तय कर लिया अपना
रास्ता मैंने।