भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"सबद-2 / ओम पुरोहित ‘कागद’" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(नया पृष्ठ: <poem>इयां इ नीं बिरथा गमाओ सबदां नै राखणा पड़सी कीं सबद दूसर नेड़ा आ…)
 
 
पंक्ति 1: पंक्ति 1:
<poem>इयां इ नीं
+
{{KKGlobal}}
 +
{{KKRachna
 +
|रचनाकार=ओम पुरोहित ‘कागद’
 +
|संग्रह=
 +
}}
 +
[[Category:मूल राजस्थानी भाषा]]
 +
{{KKCatKavita‎}}
 +
<Poem>
 +
इयां इ नीं
 
बिरथा गमाओ
 
बिरथा गमाओ
 
सबदां नै
 
सबदां नै

01:56, 24 अक्टूबर 2010 के समय का अवतरण

इयां इ नीं
बिरथा गमाओ
सबदां नै
राखणा पड़सी
कीं सबद
दूसर नेड़ा
आवण रै मिस
मून तोड़ण सारू ।