भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सभबा बैठल तोहे कवन दादा / अंगिका लोकगीत

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:46, 28 अप्रैल 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |रचनाकार=अज्ञात }} {{KKCatAngikaRachna}} <poem> प्रस्तुत गी...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

प्रस्तुत गीत में विधिपूर्वक दुलहे-दुलहन को परिछने का निर्देश है; क्योंकि दुलहन का आगमन उस घर में लक्ष्मी के रूप में हो रहा है।

सभबा बैठल तोंहें कवन दादा, डलबा[1] परीछि[2] घर लेहू, लछमी चलि आबे।
मचिया बैठली तोंहें कवन दादी, पुतहू परीछि घर लेहू,
लछमी चलि आबे॥1॥
सभबा बैठल तोंहें कवन चाचा, डलबा परीछि घर लेहू,
लछमी चलि आबे।
मचिया बैठली तोंहें कवन चाची, पुतहू परीछि घर लेहू,
लछमी चलि आबे॥2॥

शब्दार्थ
  1. डाला; बाँस की बारीक कमाचियों का बना हुआ गोलाकार टोकरा
  2. परिछन करके