भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

समझ मन अवसर बित्यो जाय / शिवदीन राम जोशी

Kavita Kosh से
Kailash Pareek (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 03:03, 24 जून 2012 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=शिवदीन राम जोशी | }} {{KKCatPad}} <poem> समझ मन अ...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

समझ मन अवसर बित्यो जाय |
मानव तन सो अवसर फिर-फिर, मिलसी कहाँ बताय ||
हरी गुण गाले प्रभु को पाले, अपने मन को तू समझाले |
जनम जनम का नाता प्रभु से, रह्यो किया बिसराय ||
उर अनुराग प्यार ईश्वर से, प्रेम लगाकर फिर कद करसे |
पता नहीं क्या होगा क्षण में, क्षण-क्षण राम रिझाय ||
रीझ जायेंगे हैं वो दाता, वह ही तो है भाग्य विधाता |
राम कृष्ण मन संत अचल का, रैन दिवस गुण गाय ||
यो अवसर चूके मत बंदा, चूक्याँ मिटे न भव भय फंदा |
कहे शिवदीन हृदय में गंगा, चलो गंग में न्हाय ||