भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

समाधि-लेख / रसूल हम्ज़ातव

Kavita Kosh से
सम्यक (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 19:15, 18 अप्रैल 2009 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: रसूल हम्ज़ातव  » समाधि-लेख

जब ज़िन्दा था
प्यार किया था
मर कर लेटा
आज यहाँ

कौन बगल में
मेरी लेटी
मुझको कुछ भी
नहीं पता


अंग्रेज़ी से अनुवाद : रमेश कौशिक