भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सागर का विस्तार गगन तक / कविता भट्ट

Kavita Kosh से
वीरबाला (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 09:22, 28 जून 2019 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


सागर का विस्तार गगन तक
हे प्रिय सागर का विस्तार
क्षण पल मृदु कण सत्त्व-समाश्रित
कुछ अनंत और शेष अपार,
बूँद निरर्थक नहीं प्रेम की
हे प्रिय मोती-सीप अपार
 मेरे मन से तेरे मन तक
बादल प्रतिफल अमृत के प्रसार
सागर का विस्तार गगन तक
हे प्रिय सागर का विस्तार 