भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

साथ हरदम भी बेनकाब नहीं / गुलाब खंडेलवाल

Kavita Kosh से
Vibhajhalani (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 06:25, 22 जून 2009 का अवतरण (नया पृष्ठ: साथ हरदम भी बेनकाब नहीं खूब पर्दा है यह! जवाब नहीं कैसे फिर से शु...)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

साथ हरदम भी बेनकाब नहीं

खूब पर्दा है यह! जवाब नहीं


कैसे फिर से शुरू करें इसको

ज़िन्दगी है कोई किताब नहीं


क्यों दिए पाँव उसके कूचे में

नाज़ उठाने की थी जो ताब नहीं


आपने की इनायतें तो बहुत

ग़म भी इतने दिए, हिसाब नहीं


मुस्कुराने की बस है आदत भर

अब इन आँखों में कोई ख्वाब नहीं


मेरे शेरों में ज़िन्दगी है मेरी

कभी सूखें, ये वो गुलाब नहीं