भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सारे दर्द उठा के रख लूँ / सूफ़ी सुरेन्द्र चतुर्वेदी

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 21:59, 16 नवम्बर 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सूफ़ी सुरेन्द्र चतुर्वेदी |अनुव...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सारे दर्द उठा के रख लूँ ।
ख़ुद में तुझे छिपा के रख लूँ ।

ख़िदमत से मिलती है दुआएँ,
मैं ये दौलत कमा के रख लूँ ।

कभी तो थक के लौटेगा तू,
आ कुछ साँसे बचा के रख लूँ ।

कड़ी धूप में काम आएँगे,
ख़्वाब सुहाने सजा के रख लूँ ।

तुझे दिखाने होंगे इक दिन,
साथ में मोती वफ़ा के रख लूँ ।

गर तेरी ख्वाहिश बन जाऊँ,
मैं हर ख्वाहिश दबा के रख लूँ ।

देख के तुझको जी करता है,
तुझको तुझसे चुरा के रख लूँ ।