भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

सावन / राकेश खंडेलवाल

Kavita Kosh से
Pratishtha (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:42, 1 मई 2008 का अवतरण (New page: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार = राकेश खंडेलवाल }} चाहतें दिल में अपने हजारों पलीं,कोर...)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चाहतें दिल में अपने हजारों पलीं,कोरी चाह्त से पर कुछ भी होता नहीं

स्वप्न आतुर हैं सैधें लगाये मगर, नैन के गाँच में कोई सोता नहीं

चैत बैसाख, फागुन सभी द्वार पर आके खुद ही बसेरा बनाते रहे

सैंकड़ों मैंने भेजे निमन्त्रण मगर, एक सावन ही आके भिगोता नही