भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सिपाहियों का गीत / रमेश रंजक

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 11:37, 19 अगस्त 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रमेश रंजक |अनुवादक= |संग्रह= रमेश र...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सान पर चढ़े हुए
हम अजीब पहरुए
पाँव इस तरफ़ धरो ज़रा सम्भाल के ।
हम सरल जवाब हैं कठिन सवाल के ।।

वीर भूमि के सपूत लोह के ढले
जिस तरफ़ चलें, उठें हज़ार जलजले
वज्र से डरें न हम
मृत्यु से मरें न हम
रक्त के दिवस हमें लगें गुलाल के ।
हम सरल जवाब हैं कठिन सवाल के ।।

देश के पवित्र स्वाभिमान के लिए
राष्ट्र के अजर-अमर निशान के लिए
मुश्किलें करें सरल
ज़िन्दगी बदल-बदल
दम्भ के पहाड़ फेंक दें उछाल के ।
हम सरल जवाब हैं कठिन सवाल के ।।

हम बहुत कृतज्ञ जो जगा गए हमें
एकता का रास्ता दिखा गए हमें
सूत में पिरो गए
फूल सब नए-नए
भिन्न-भिन्न रंग के विभिन्न डाल के ।
हम सरल जवाब हैं कठिन सवाल के ।।