भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

सीख / कृष्ण वृहस्पति

Kavita Kosh से
आशिष पुरोहित (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 05:40, 12 जून 2017 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

थां सूं ई
सीख्यो है मौसम इतराणों
अर चांद नखरा।
सूरज भी थां सूं ईज
सीख्यों है तपणों
अर मेह
भांत-भांत सूं बरसणों।

ठाह नीं
तूं कीं सूं सीख्यो है
मांय-मांय घुटणों
अर बात-बिना बात
मुळकणों।